Hanuman Chalisa Lyrics and Meaning Hindi

Hanuman Chalisa is a Hindu devotional hymn on Lord Hanuman.

It was written by Tulsidas, a poet and saint of 16th century, in Awadhi language. There are forty verses in the hymn and hence the name Hanuman Chalisa, meaning fory verses in praise of Hanuman.

 Tulsidas addresses Hanuman with four adjectives in this final verse to indicate that Hanuman helps cleanse the mind (Manas), intellect (Buddhi), heart (Chitta) and ego (Ahaṅkāra), and by asking him to reside in the heart of the devotee, Tulsidas ends the work by implying that the refuge of Hanuman is the supreme pursuit.

Historic Relation

It is said that Tulsidas wrote Hanuman Chalisa in a prison confinement and sang it for forty whole days,.After this ,an army of monkeys attacked on the court of Akbar , leading to release of Tulsidas from prison. Since then , the verses became popular in Hindu relgion and are a method to invoke the divine intervention of Hanuman in grave situation .

Benefits of reciting it

Hanuman Chalisa can be read in the morning after taking a bath . The devotees should wash their hands , feet and face before the recitation .

  1. Hanuman Chalisa can help those who are troubled from nightmares , if they place the written text under their pillow before sleeping.
  2. Reciting Hanuman Chalisa can ward off evil spirits and negative energy,reduce the effect of Saturn .It should be recited on every Saturday for peace and prosperity.
  3. Dedicated recitation of Chalisa can help to overcome trauma of bad experiences.
  4. Hanuman prevents unfortunates accidents and ensure a safe travel, that is why people keep his idol in vehicles .
  5. It can create unity among family members and eliminate disagreements and promote contentment
  6. For those seeking for spiritual knowledge and wisdom , Hanuman chalisa is really helpful as it promotes clarity in thoughts and removes negative thoughts from the mind.
  7. Common health problems can be treated just by reciting the verses regularly.
Hanuman Chalisa is recited by millions of Hindus to gain power and strength, and especially to ward off evil spirits. It directly connects devotees to Lord Hanuman,who is himself a symbol of wisdom and strength.

Doha

श्रीगुरु चरन सरोज रज निजमनु मुकुरु सुधारि।
बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि।।
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।।

Chaupai

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।
जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।
रामदूत अतुलित बल धामा।
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।
महावीर विक्रम बजरंगी।
कुमति निवार सुमति के संगी।।
कंचन वरन विराज सुवेसा।
कानन कुण्डल कुंचित केसा।।
हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।
काँधे मूँज जनेऊ साजै।
शंकर सुवन केसरीनंदन।
तेज प्रताप महा जग वन्दन।।
विद्यावान गुणी अति चातुर।
राम काज करिबे को आतुर।।
प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।
राम लखन सीता मन बसिया।।
सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।
विकट रूप धरि लंक जरावा।।
भीम रूप धरि असुर संहारे।
रामचंद्र के काज संवारे।।
लाय सजीवन लखन जियाये।
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।।
रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।
सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।
अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।
सनकादिक ब्रह्मादि मुनीशा।
नारद सारद सहित अहीसा।।
जम कुबेर दिगपाल जहां ते।
कवि कोविद कहि सके कहाँ ते।।
तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।
राम मिलाय राज पद दीन्हा।।
तुम्हरो मंत्र विभीषन माना।
लंकेश्वर भये सब जग जाना।।
जुग सहस्र योजन पर भानू।
लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।
जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।
दुर्गम काज जगत के जेते।
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।
राम दुआरे तुम रखवारे।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।
सब सुख लहै तुम्हारी सरना।
तुम रक्षक काहू को डरना।।
आपन तेज सम्हारो आपै।
तीनों लोक हांक तें कांपै।।
भूत पिसाच निकट नहिं आवै।
महाबीर जब नाम सुनावै।।
नासै रोग हरै सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बीरा।।
संकट तें हनुमान छुड़ावै।
मन क्रम वचन ध्यान जो लावै।।
सब पर राम तपस्वी राजा।
तिनके काज सकल तुम साजा।
और मनोरथ जो कोई लावै।
सोई अमित जीवन फल पावै।।
चारों युग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा।।
साधु-संत के तुम रखवारे।
असुर निकंदन राम दुलारे।।
अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।
अस वर दीन जानकी माता।।
राम रसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा।।
तुम्हरे भजन राम को भावै।
जनम-जनम के दुख बिसरावै।।
अन्त काल रघुबर पुर जाई।
जहाँ जन्म हरि-भक्त कहाई।।
और देवता चित्त न धरई।
हनुमत सेई सर्व सुख करई।।
संकट कटै मिटै सब पीरा।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।
जै जै जै हनुमान गोसाईं।
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।
जो सत बार पाठ कर कोई।
छूटहिं बंदि महा सुख होई।।
जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।
होय सिद्धि साखी गौरीसा।।
तुलसीदास सदा हरि चेरा।
कीजै नाथ हृदय महँ डेरा।।

Doha

पवनतनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।