Shri Ram Stuti- Lyrics and meaning

Written by : Goswami Tulsidas
Text : Vinay Patrika
Language : Sanskrit ,Awadhi

The prayer glorifies Lord Rama and his character to its best .It is prominently sung during Ram navami, VijayDashami and Sunderkand.

Shri Ram Stuti Lyrics and Meaning:

॥दोहा॥

1.श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन
  हरण भवभय दारुणं ।
  नव कंज लोचन कंज मुख
  कर कंज पद कंजारुणं ॥१॥

MEANING:

हे मन कृपालु श्रीरामचन्द्रजी का भजन कर । वे संसार के जन्म-मरण रूपी दारुण भय को दूर करने वाले हैं ।
उनके नेत्र नव-विकसित कमल के समान हैं । मुख-हाथ और चरण भी लालकमल के सदृश हैं ॥१॥

2.कन्दर्प अगणित अमित छवि
  नव नील नीरद सुन्दरं ।
  पटपीत मानहुँ तडित रुचि शुचि
  नोमि जनक सुतावरं ॥२॥

MEANING:

उनके सौन्दर्य की छ्टा अगणित कामदेवों से बढ़कर है । उनके शरीर का नवीन नील-सजल मेघ के जैसा सुन्दर वर्ण है ।
पीताम्बर मेघरूप शरीर मानो बिजली के समान चमक रहा है । ऐसे पावनरूप जानकीपति श्रीरामजी को मैं नमस्कार करता हूँ ॥२॥


3.भजु दीनबन्धु दिनेश दानव
  दैत्य वंश निकन्दनं ।
  रघुनन्द आनन्द कन्द कोशल
  चन्द दशरथ नन्दनं ॥३॥

MEANING:


हे मन दीनों के बन्धु, सूर्य के समान तेजस्वी, दानव और दैत्यों के वंश का समूल नाश करने वाले,
आनन्दकन्द कोशल-देशरूपी आकाश में निर्मल चन्द्रमा के समान दशरथनन्दन श्रीराम का भजन कर ॥३॥


4.शिर मुकुट कुंडल तिलक
  चारु उदारु अङ्ग विभूषणं ।
  आजानु भुज शर चाप धर
  संग्राम जित खरदूषणं ॥४॥

MEANING:

जिनके मस्तक पर रत्नजड़ित मुकुट, कानों में कुण्डल भाल पर तिलक, और प्रत्येक अंग मे सुन्दर आभूषण सुशोभित हो रहे हैं ।
जिनकी भुजाएँ घुटनों तक लम्बी हैं । जो धनुष-बाण लिये हुए हैं, जिन्होनें संग्राम में खर-दूषण को जीत लिया है ॥४॥

5.इति वदति तुलसीदास शंकर
  शेष मुनि मन रंजनं ।
  मम् हृदय कंज निवास कुरु
  कामादि खलदल गंजनं ॥५॥

MEANING:

जो शिव, शेष और मुनियों के मन को प्रसन्न करने वाले और काम, क्रोध, लोभादि शत्रुओं का नाश करने वाले हैं,
तुलसीदास प्रार्थना करते हैं कि वे श्रीरघुनाथजी मेरे हृदय कमल में सदा निवास करें ॥५॥

6.मन जाहि राच्यो मिलहि सो
  वर सहज सुन्दर सांवरो ।
  करुणा निधान सुजान शील
  स्नेह जानत रावरो ॥६॥

MEANING:

जिसमें तुम्हारा मन अनुरक्त हो गया है, वही स्वभाव से सुन्दर साँवला वर (श्रीरामचन्द्रजी) तुमको मिलेगा।
वह जो दया का खजाना और सुजान (सर्वज्ञ) है, तुम्हारे शील और स्नेह को जानता है ॥६॥

7.एहि भांति गौरी असीस सुन सिय
 सहित हिय हरषित अली।
 तुलसी भवानिहि पूजी पुनि-पुनि
 मुदित मन मन्दिर चली ॥७॥

MEANING:

इस प्रकार श्रीगौरीजी का आशीर्वाद सुनकर जानकीजी समेत सभी सखियाँ हृदय मे हर्षित हुईं।
तुलसीदासजी कहते हैं, भवानीजी को बार-बार पूजकर सीताजी प्रसन्न मन से राजमहल को लौट चलीं ॥७॥

॥सोरठा॥

जानी गौरी अनुकूल सिय
हिय हरषु न जाइ कहि ।
मंजुल मंगल मूल वाम
अङ्ग फरकन लगे।

MEANING:

गौरीजी को अनुकूल जानकर सीताजी के हृदय में जो हर्ष हुआ वह कहा नही जा सकता। सुन्दर मंगलों के मूल उनके बाँये अंग फड़कने लगे ॥